नौकरी के लिए बुलाकर करवाता था देह व्यापार, जानें कैसे चलता था रैकेट

मध्य प्रदेश के इंदौर में एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश हुआ है जो लड़कियों को नौकरियों का झांसा देकर बुलाता था और उन्हें देह व्यापार में धकेल देता था। इंदौर की विजय नगर पुलिस ने गिरोह के चंगुल से ऐसी 13 युवतियों को मुक्त कराया है। इस बात का खुलासा तब हो पाया जब गिरोह के चंगुल से बची दो युवतियों ने पुलिस से शिकायत की। पुलिस ने गिरोह के 10 सदस्यों को भी गिरफ्तार किया है। युवतियों ने पुलिस को बताया कि उन्हें इंदौर की एक युवती ने इवेंट में काम देने का झांसा दिया था। उसकी बातों में आकर दोनों बंगाल से इंदौर आ गईं। कुछ दिन बाद उन्हें समझ आया कि वो गलत जगह आ गयी हैं। उन पर अनजान लोगों के साथ जबरन शारीरिक संबंध बनाने के लिए दबाब डाला जाने लगा। मना करने पर उन्हें भूखा रखा गया और शारीरिक यातनाएं दी गईं। 

इनके अश्लील वीडियो भी बनाए गए। पुलिस ने इनकी शिकायत पर आरोपियों को पकड़ लिया है, जिनमें एक युवती भी है। सभी के खिलाफ अपहरण और दुष्कर्म सहित अन्य धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। आरोपियों से पूछताछ में खुलासा हुआ कि इनका बहुत बड़ा गिरोह है। इनके अन्य साथी भी शहर में मौजूद हैं।

पुलिस ने आरोपियों की निशानदेही पर अलग-अलग ठिकानों पर छापा मारकर 13 लड़कियों को मुक्त कराया, जिनमें कुछ नाबालिग भी हैं। अभी तक जो जानकारी मिली है उससे पता चला है कि यह गिरोह गरीब लड़कियों को अपने जाल में फंसाता था। उन्हें नौकरी का लालच देकर इंदौर बुलाते थे। यहां तक कि बांग्लादेश तक की कुछ युवतियों को गैर कानूनी तरीके से सीमा पार करवाकर इंदौर लाया गया और सभी को देह व्यापार में धकेल दिया गया। गिरोह की नजर महाराष्ट्र, बंगाल और बिहार पर भी थी। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे  से 25 मोबाइल फोन, लैपटॉप और एक लाख रुपए नकद जब्त किए हैं।

इंदौर डीआईजी हरिनारायण चारी मिश्रा के मुताबिक, बाहरी राज्यों से युवतियों को इंदौर लाकर उनसे जबरिया देह व्यापार कराया जा रहा था। पुलिस ने कुल दस आरोपी गिरफ्तार किये हैं। उनके खिलाफ मानव तस्करी सहित अन्य गम्भीर मामले दर्ज किए गए हैं। जानकारी जुटाई जा रही है कि उनके इस गिरोह में और कौन कौन मददगार था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.