गेहूं की नई प्रजाति ‘पूसा वानी’, इसमें भरपूर प्रोटीन, आयरन और जिंक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राष्ट्र को हाल ही में समर्पित 17 जैव संवर्धित फसल किस्मों में गेहूं की नई प्रजाति ‘पूसा वानी‘ शामिल है। कृषि वैज्ञानिकों का कहना है कि गेहूं की यह उन्नत किस्म किसानों की आय बढ़ाने के साथ ही कुपोषण के खिलाफ जारी महत्वपूर्ण जंग में भी मददगार साबित होगी क्योंकि इसमें भरपूर मात्रा में प्रोटीन, आयरन और जिंक होता है। अधिकारियों ने रविवार को बताया कि पूसा वानी को भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (आईएआरआई) के इंदौर स्थित क्षेत्रीय केंद्र के वैज्ञानिकों ने 12 साल की मेहनत से विकसित किया है। इस केंद्र के प्रमुख डॉ. एसवी साई प्रसाद ने बताया, “पूसा वानी (एचआई 1633) में गेहूं की पुरानी किस्मों के मुकाबले अधिक मात्रा में प्रोटीन (12.4 प्रतिशत), आयरन (41.6 पीपीएम) और जिंक (41.1 पीपीएम) जैसे पोषक तत्व समाए हैं। लिहाजा यह नई जैव संवर्धित किस्म कुपोषण दूर करने में सहायक सिद्ध होगी।’

उन्होंने बताया कि पूसा वानी से अच्छी गुणवत्ता की चपाती और बिस्किट बनाए जा सकते हैं, जिससे किसानों को इसकी बेहतर कीमत मिलने की उम्मीद है। साई प्रसाद ने बताया कि पूसा वानी हालांकि महाराष्ट्र और कर्नाटक के प्रायद्वीपीय क्षेत्रों और तमिलनाडु के मैदानी इलाकों के लिए चिन्हित की गई है, लेकिन देश के मध्यवर्ती हिस्सों में भी इसकी खेती की जा सकती है।

पूसा वानी की औसत उत्पादन क्षमता 41.7 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है, जबकि इससे 65.8 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की अधिकतम पैदावार ली जा सकती है। साई प्रसाद ने बताया कि रबी सत्र के दौरान देर से बुआई और सिंचित अवस्था में गेहूं की खेती के लिए पूसा वानी की पहचान की गई है।
     
यह भी बताया कि गेहूं की इस नई किस्म में काले और भूरे रतुआ रोगों को लेकर प्रतिरोधक क्षमता है और इसकी खेती पर कीटों का प्रकोप नगण्य होता है। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री ने विश्व खाद्य दिवस पर 16 अक्टूबर (शुक्रवार) को गेहूं, चावल, सरसों, मक्का और मूंगफली समेत आठ खाद्य फसलों की 17 जैव संवर्धित किस्में राष्ट्र को समर्पित की थीं। इस दिन संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) की 75वीं वर्षगांठ भी थी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.