पुजारी गोलीकांड का पुलिस ने किया चौंकाने वाला खुलासा

गोंडा-उत्तर प्रदेश के गोंडा में मंदिर और आश्रम पर कब्जे को लेकर हुए चर्चित पुजारी गोलीकांड का चौंकाने वाला खुलासा पुलिस ने किया है। पुलिस के मुताबिक, मंदिर के दोनों पुजारियों ने खुद पर ही गोली चलवाकर केस में आरोपियों को फंसाने की साजिश रची थी। एसपी गोंडा शैलेश कुमार पांडेय ने बताया कि दोनों पुजारी खुद ही जमीन हथियाना चाहते थे जिस मकसद से इन्होंने शूटर को हायर किया था।

पुलिस ने इस घटना में शामिल दोनों पुजारी, प्रधान और शूटर समेत सात लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। उनके पास से पुलिस ने अवैध असलहे भी बरामद किए हैं। एसपी शैलेश कुमार पांडेय ने कहा कि इस कांड में दोनों पुजारी के साथ ग्राम प्रधान भी शामिल हुआ। दोनों पुजारी तो विवादित जमीन पर अपना कब्जा चाहते थे। वहीं ग्राम प्रधान आगामी पंचायत चुनाव में विपक्षी को फंसाकर फिर से प्रधान बनना चाहता था। पुलिस ने सभी आरोपियों को जेल भेज दिया है। इसके साथ ही इस कांड में फंसाए गए बेकसूर लोगों पर से केस हटाने की कार्यवाही पुलिस ने शुरू कर दी है।

11 अक्टूबर को इटियाथोक थाना के तिर्रेमनोरमा गांव में हुई इस घटना पर योगी सरकार को विपक्षियों ने घेरा था। बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा था कि संत की सरकार में संत भी सुरक्षित नहीं। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने भूमाफियाओं से सत्ता के गठजोड़ होने का आरोप लगाते हुए कहा था कि कथित रामराज्य में कोई सुरक्षित नहीं है। सपा ने भी घटना को दुखद बताते हुए योगी सरकार पर हमला बोला था। रात में पुजारी सम्राट दास को गोली मारी गई थी और मंदिर के दूसरे पुजारी सीताराम दास ने मंदिर की जमीन पर कब्जा करने का आरोप लगाते हुए चार लोगों के खिलाफ केस दर्ज कराया था। अयोध्या के संतों ने पुजारी पर चली गोली पर रोष जताया था। लेकिन अब पुलिस ने खुलासा किया है कि पुजारी ने ही साजिश के तहत खुद पर गोली चलवाई थी

Leave A Reply

Your email address will not be published.