बिना मांग पत्र के ही डिपो से उठाए बांस बल्ली, विभाग ने तहसीलदार को थमाया एक लाख 51 हजार का बिल

भूपेश मांझी/पिथौराकोरोना से संबंधित सुरक्षा के लिए तहसीलदार ने वन काष्ठागार पिथौरा से लगातार बांस एवं बल्लियां मंगाकर उपयोग किया है। जबकि उसका विधिवत मांग पत्र जारी होना चाहिए था। बिना मांग पत्र के ही काष्ठागार से बांस बल्ली लेते रहे।अब विभाग ने तहसीलदार को ₹151000 का बिल थमाया है। जब बिल प्राप्त हुआ तो प्रशासन के होश उड़ गए। अब पुराने तिथि में मांग पत्र बनाने की सुगबुगाहटें और योजना चल रही है। बता दें कि कोरोना काल में यह स्थिति है कि अगर किसी के घर या मोहल्ले में कोई कोरोनावायरस की सुगबुगाहट भी होती थी तो तहसीलदार ट्रैक्टर में बांस बल्ली भरवाकर पहुंच जाते थे और सीधे घेराव शुरू कर देते थे अब जब उक्त बांस बल्ली की कीमत देने की बारी आई है तो वे पीडब्ल्यूडी विभाग पर जिम्मेदारी सौंपने के लिए तत्पर दिख रहे हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.